आरजीएनएयू के बारे में

About rgnau About rgnau

 

राजीव गांधी राष्ट्रीय विमानन विश्वविद्यालय (आरजीएनएयू) की स्थापना राजीव गांधी राष्ट्रीय विमानन विश्वविद्यालय अधिनियम, 2013 के तहत फुरसतगंज, जिला – अमेठी में की गई है। भारत में विमानन उद्योग को बढ़ाने के लिए अत्याधुनिक और महत्वपूर्ण शोध प्रदान करने के उद्देश्य से विश्वविद्यालय को विमानन मानव संसाधन के विकास के लिए उच्च शिक्षा के प्रमुख संस्थान के रूप में माना गया है।

संसद के अधिनियम ने नागरिक उड्डयन के क्षेत्र में डिप्लोमा, स्नातक उपाधि और स्नातकोत्तर उपाधि देने के लिए विश्वविद्यालय को अधिकार प्रदान किया है। साथ ही विमानन क्षेत्र में प्रमुख अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालयों / संस्थानों के साथ सहयोग, वैश्विक ज्ञान के लिए बना रहे हैं।

आरजीएनएयू का उद्देश्य विमानन उद्योग के भीतर सभी उप-क्षेत्रों के संचालन और प्रबंधन में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए उद्योग के साथ संयोजन में विमानन अध्ययन, शिक्षण, प्रशिक्षण, अनुसंधान और विस्तार कार्य को स्थानीय आवश्यकताओं के अनुसार सुगम बनाना और बढ़ावा देना है। विश्वविद्यालय वर्तमान में भारतीय विमानन उद्योग के भीतर कौशल की कमी को पूरा करने और भविष्य की आवश्यकताओं को ध्यान में रखने के लिए कई पाठ्यक्रमों की पेशकश करना चाहता है।

विश्वविद्यालय पहले से ही अपने रोजगार में लगे मध्य स्तर और वरिष्ठ विमानन पेशेवरों के लिए अद्यतन ज्ञान प्रदान करने के लिए कई कार्यकारी विकास कार्यक्रम / प्रबंधन विकास कार्यक्रम का संचालन कर रहा है। कार्यकारी विकास कार्यक्रम / प्रबंधन विकास कार्यक्रम ढांचे के भाग के रूप में पेश किए गए पाठ्यक्रमों की रूपरेखा को भारतीय विमानन उद्योग की आवश्यकताओं के अनुरूप तैयार किया जाएगा, जबकि उन्हें उन प्रमाणन के साथ प्रदान किया जाना चाहिए जो विश्व स्तर पर उनके संबंधित क्षेत्रों / उप-क्षेत्रों के लिए बेंचमार्क के रूप में स्वीकार किए जाते हैं।

विश्वविद्यालय इन सभी कार्यक्रमों का अनुसरण करेगा जो विमानन उद्योग के सामने आ रही समस्‍याओं का हल प्रदान करेगा | विश्वविद्यालय इन व्यावसायिक समस्याओं को हल करने के लिए अकादमिक संसाधनों द्वारा निरुपित करेगा, जिससे न केवल व्यवसायिक समाधान प्रदान किया जाए, बल्कि नागर विमानन मंत्रालय द्वारा इसमें दिखाए गए विश्वास के अनुरूप भारतीय विमानन उद्योग के लिए प्रासंगिक भी रहें।